Dainik Bhaskar Dainik Bhaskar

Dainik Bhaskar जम्मू-कश्मीर में पुलिस-सेना के बीच मारपीट:3 लेफ्टिनेंट कर्नल समेत 16 लोगों पर हत्या की कोशिश का केस; कुपवाड़ा थाने पर हमला किया था

जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में पुलिस स्टेशन में मंगलवार रात सेना और पुलिस के बीच मारपीट हुई थी। पुलिस स्टेशन पर हमला करने के आरोप में 3 लेफ्टिनेंट कर्नल समेत 16 लोगों पर जान से मारने की कोशिश यानी अटेम्प्ट टु मर्डर की FIR दर्ज की गई है। घटना मंगलवार-बुधवार कर रात हुई थी। बताया जा रहा है कि एक ड्रग केस में पुलिस ने 160 टेरिटोरियल आर्मी के जवान से पूछताछ की थी। इस बात से सेना के अधिकारी नाराज हो गए। बड़ी संख्या में वर्दीधारी और हथियारों से लैस जवान पुलिस स्टेशन में दाखिल हो गए। उनके साथ सीनियर सैन्य अधिकारी भी थे। पुलिस का दावा- सेना के अधिकारियों ने राइफल बट, छड़ियों और लातों से मारा FIR के मुताबिक, आर्मी के ग्रुप की अगुआई लेफ्टिनेंट कर्नल अंकित सूद, राजीव चौहान और निखिल कर रहे थे। ये तीनों अधिकारी जबरन पुलिस स्टेशन में दाखिल हुए और राइफल की बट, छड़ियों और लातों से वहां मौजूद पुलिस कर्मचारियों पर हमला कर दिया। FIR में लिखा गया है कि सेना के जवानों ने अपने हथियार लहराए, घायल पुलिस वालों के मोबाइल फोन छीन लिए और एक पुलिस वाले का अपहरण करके मौके से फरार हो गए। सीनियर पुलिस वालों ने तुरंत कार्रवाई करते हुए पुलिसकर्मी को सेना की गिरफ्त से छुड़ाया और हमला करने वालों के खिलाफ कानून कार्रवाई की। आर्मी जवानों और अधिकारियों पर इन धाराओं में हुई FIR यह FIR IPC के सेक्शन 186 (पब्लिक सर्वेंट की ड्यूटी में बाधा डालना), 332 (ड्यूटी करने से रोकने के लिए पब्लिक सर्वेंट को चोट पहुंचाना), 307 (मर्डर की कोशिश), 342 (बंधक बनाना), 147 (दंगा करना) के तहत दर्ज की गई है। आरोपियों पर सेक्शन 149 (गैरकानूनी तरीके से जमा हुई भीड़ के सभी लोग गलत काम करने के दोषी), 392 (चोरी करने की सजा), 397 (जान से मारने या गंभीर रूप से चोट पहुंचाने की कोशिश के साथ चोरी या डकैती करना) और 365 (किसी व्यक्ति को बंधक बनाने के उद्देश्य से उसका अपहरण करना) के तहत भी चार्ज लगाया गया है। इसके अलावा उनपर आर्म्स एक्ट के तहत भी केस दर्ज किया गया है।

Dainik Bhaskar जम्मू में 150 फीट गहरी खाई में गिरी बस:7 की मौत, हाथरस के 60 तीर्थयात्री सवार थे; रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

जम्मू के अखनूर में गुरुवार दोपहर तीर्थयात्रियों को ले जा रही एक बस खाई में गिर गई। हादसे में 7 लोगों की मौत हो गई। कई लोग घायल हुए हैं। इन्हें अस्पताल ले जाया गया है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि बस में उत्तर प्रदेश के हाथरस के करीब 60 लोग सवार थे। सभी शिव खोरी जा रहे थे। बस जम्मू-पुंछ राजमार्ग से गुजर रही थी तभी 150 फीट गहरी खाई में गिर गई। रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। हादसे की वजह फिलहाल सामने नहीं आई है। हादसे की तस्वीरें... 6 महीने पहले भी ऐसा हादसा हुआ था 15 नवंबर 2023 को जम्मू-कश्मीर के डोडा जिले के अस्सार इलाके में एक बस 300 फीट गहरी खाई में गिर गई थी। हादसे में 9 महिलाओं समेत 38 लोगों की मौत हुई थी। बस किश्तवाड़ से जम्मू जा रही थी। पुलिस और SDRF की टीमों के साथ स्थानीय लोगों ने भी राहत और बचाव का काम किया था। बस बुरी तरह डैमेज हो गई थी इसलिए इसे काटकर डेड बॉडी और घायलों को बाहर निकालना पड़ा था। घायलों को किश्तवाड़ जिला अस्पताल और डोडा के गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज (GMC) में भर्ती कराया गया था। कुछ लोगों को जम्मू एयरलिफ्ट किया गया था। यह खबर भी पढ़ें... मिजोरम में लैंडस्लाइड से 27 की मौत, इनमें 2 बच्चे:रेमल तूफान के कारण बारिश से पत्थर की खदान ढही; असम में भी दो की मौत पश्चिम बंगाल में रविवार (26 मई) को आए रेमल तूफान का असर अब नॉर्थ-ईस्ट में दिखने लगा है। मिजोरम में तूफान के कारण लगातार हो रही बारिश की वजह से मंगलवार सुबह 6 बजे आइजोल में एक पत्थर की खदान ढह गई। अब तक इसमें 27 लोगों की मौत हुई है। इनमें 4 साल का लड़का और 6 साल की लड़की शामिल है। पढ़ें पूरी खबर...

Dainik Bhaskar थरूर का पूर्व PA दिल्ली एयरपोर्ट पर गिरफ्तार:35 लाख रुपए के सोने की तस्करी का आरोप; सांसद बोले- उन्हें पार्ट-टाइम जॉब पर रखा था

दिल्ली कस्टम डिपार्टमेंट ने बुधवार को इंदिरा गांधी एयरपोर्ट से सोने की तस्करी के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया। इनमें से एक की पहचान कांग्रेस नेता शशि थरूर के पूर्व PA शिव कुमार प्रसाद के रूप में की गई है। अधिकारियों ने आरोपियों के पास से 35 लाख रुपए कीमत वाला 500 ग्राम सोना भी जब्त किया है। इस मामले को लेकर शशि थरूर ने X पर हैरानी जताई। उन्होंने लिखा- अपने पूर्व स्टाफ से जुड़ी घटना के बारे में सुनकर मैं हैरान हूं। वह (शिव कुमार प्रसाद) 72 साल के रिटायर्ड व्यक्ति हैं। उनका डायलिसिस होता है। हमने उन्हें सहानुभूति दिखाते हुए पार्ट टाइम आधार पर नौकरी पर रखा था। मैं किसी भी गलत काम की निंदा नहीं करता हूं। मैं मामले की जांच में अधिकारियों का पूरा समर्थन करता हूं। कानून को अपना काम करना चाहिए। कस्टम अधिकारी बोले- पूछताछ में शिव प्रसाद संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए सूत्रों के मुताबिक, कस्टम अधिकारियों ने इंदिरा गांधी एयरपोर्ट के टर्मिनल 3 पर शिव प्रसाद को पकड़ा था। उनकी तलाशी ली गई तो 500 ग्राम से ज्यादा सोना मिला। पूछताछ के दौरान वे संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए कि वे इतना सोना लेकर क्यों चल रहे हैं। केंद्रीय मंत्री बोले- ये सोने की तस्करी करने वालों का अलायंस केरल के तिरुवनंतपुरम से शशि थरूर के खिलाफ चुनाव लड़ रहे केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने कहा कि कांग्रेस और CPM सोने की तस्करी करने वालों का अलायंस है। उन्होंने X पर पोस्ट किया कि पहले मुख्यमंत्री के सचिव सोने का तस्करी में नाम आया था, और अब कांग्रेस सांसद के PA को सोने की स्मगलिंग में पकड़ा गया है। CPM और कांग्रेस दोनों INDI अलायंस के पार्टनर्स असल में गोल्ड स्मगलिंग करने वालों का अलायंस है।

Dainik Bhaskar आजम खान को 10 साल की सजा:डूंगरपुर मामले में रामपुर की MP/MLA कोर्ट ने 14 लाख का जुर्माना भी लगाया

सपा नेता आजम खान को डूंगरपुर बस्ती केस में रामपुर की MP/MLA कोर्ट ने 10 साल की सजा सुनाई है। कोर्ट ने आजम खान पर 14 लाख का जुर्माना भी लगाया है। बस्ती खाली कराने के मामले में 2019 में रामपुर के गंज थाने में 12 लोगों ने 12 केस दर्ज कराए थे। इसमें आजम खान आरोपी हैं। डूंगरपुर बस्ती केस से जुड़े 4 मुकदमों में अब तक फैसला आ चुका है। 2 में आजम बरी हो चुके हैं, 2 में उनको दोषी ठहराया गया है। इसी से जुड़े एक मामले में उनको 7 साल की सजा सुनाई जा चुकी है। आज जिस केस में आजम को दोषी ठहराया गया, वह अबरार पुत्र नन्हें खां ने दर्ज कराया था। आजम खान अभी सीतापुर जेल में बंद हैं। जेल से ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से उनकी पेशी हुई। आजम पर इस केस में धारा 392, 452, 504, 506 और 120 B लगाई गई थी। आजम को 3 मामलों में हो चुकी है सजा 15 जुलाई, 2023 : आजम खान को हेट स्पीच मामले में रामपुर की कोर्ट ने 2 साल की सजा सुनाई थी। 31 जनवरी, 2024 : डूंगरपुर के एक केस में आजम खान को 7 साल की कैद और 5 लाख जुर्माने की सजा सुनाई गई। यह मामला रूबी पत्नी करामत अली की तरफ से दर्ज कराया गया था। 30 मई 2024: डूंगरपुर के एक केस में आजम खान को 10 साल की कैद और 14 लाख जुर्माने की सजा सुनाई गई। वह अबरार पुत्र नन्हें खां ने दर्ज कराया था। अब समझिए क्या है 2016 का डूंगरपुर मामला डूंगरपुर मामला 2016 का है, जब यूपी में सपा की सरकार थी। रामपुर में पुलिस लाइन के पास डूंगरपुर में आसरा कॉलोनी बनाई गई थी। कॉलोनी बनने से पहले कुछ लोगों के यहां घर बने हुए थे। जिन्हें अवैध करार देकर 2016 में बुलडोजर से गिरा दिया गया था। इस दौरान जमकर विवाद हुआ। आरोप है कि दरोगा फिरोज ने फायर भी किया। मारपीट भी की थी। साथ ही अबरार पुत्र नन्हें खां की वाशिंग मशीन, सोना-चांदी और 5 हजार रुपए लूट ले गए थे। तोड़े गए घरों के पीड़ित मालिकों ने भाजपा की सरकार आने पर साल 2019 में थाना गंज में मुकदमे दर्ज कराए। पीड़ितों की तरफ से 12 मुकदमे दर्ज कराए गए थे। अलग-अलग मुकदमों में इल्जाम था कि तत्कालीन सपा सरकार में आजम खान के इशारे पर पुलिस और सपाइयों ने डूंगरपुर में सरकारी आवास बनाने के लिए उनके घरों को जबरन गिराया। उनका सामान लूट लिया। घरों पर बुलडोजर चलाया गया। पुलिस ने जांच के दौरान इन मुकदमों में आजम को भी आरोपी बनाया। बाद में आजम खान के खिलाफ भी चार्जशीट

Dainik Bhaskar स्पेस स्टार्टअप अग्निकुल कॉसमॉस ने अपना पहला रॉकेट लॉन्च किया:रॉकेट देश के पहले सेमी-क्रायोजेनिक इंजन से पावर्ड, इसमें दुनिया का पहला 3D प्रिंटेड इंजन

स्पेस स्टार्टअप अग्निकुल कॉसमॉस ने गुरुवार को अपने पहले सिंगल स्टेज रॉकेट का सफल टेस्ट किया। सुबह 7.15 बजे इसने श्रीहरिकोटा में धनुष लॉन्चपैड से उड़ान भरी। रॉकेट को 8 KM की ऊंचाई तक पहुंचने के लिए डिजाइन किया गया था, जिसके बाद समुद्र में गिराया गया। मिशन का नाम अग्निबाण SOrTeD (सब-ऑर्बिटल टेक्नोलॉजी डिमॉन्स्ट्रेटर) है। इससे पहले 4 बार मिशन टला था। कंपनी ने बताया कि इस कंट्रोल्ड फ्लाइट के सभी मिशन ऑब्जेक्टिव पूरे हुए। मिशन का मकसद इन-हाउस टेक्नोलॉजी के प्रदर्शन के साथ जरूरी डेटा कलेक्ट करना था। यह भारत में किसी प्राइवेट स्टार्टअप की ओर से किया गया दूसरा रॉकेट लॉन्च है। दो साल पहले 17 नवंबर 2022 को इंडियन स्टार्टअप स्काईरूट एयरोस्पेस ने सिंगल स्टेज वाले विक्रम-S रॉकेट को श्रीहरिकोटा में सतीश धवन स्पेस सेंटर से सक्सेसफुली लॉन्च किया था। इस मिशन ने तीन माइलस्टोन हासिल किए: आमतौर पर, इंजन के पार्ट अलग से मैन्युफैक्चर किए जाते हैं और बाद में असेंबल किए जाते हैं। 3डी-प्रिंटेड मैन्युफैक्चरिंग प्रोसेस का उपयोग करने से लॉन्च कॉस्ट कम होने और व्हीकल असेंबली टाइम के कम होने की संभावना है। कंपनी का लक्ष्य सस्ते दामों में सैटेलाइट लॉन्च सर्विसेस देना है। अगले साल मार्च तक पहले ऑर्बिटल लॉन्च की तैयारी यह एक सबऑर्बिटल लॉन्च था। इस मिशन को 8 KM की ऊंचाई तक पहुंचने के लिए डिजाइन किया गया था, जिसके बाद इसे समुद्र में गिराया गया। कंपनी को उम्मीद है कि वो अगले साल मार्च तक अपना पहला ऑर्बिटल लॉन्च कर लेगी। सैटेलाइट को ऑर्बिट तक पहुंचाने में सक्षम होगी। इसरो ने कहा- सेमी-क्रायोजनिक की कंट्रोल्ड फ्लाइट बड़ा माइलस्टोन इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन यानी, इसरो ने अग्निकुल कॉसमॉस के सक्सेसफुल लॉन्च पर बधाई दी। स्पेस एजेंसी ने कहा- अपने लॉन्च पैड से अग्निबाण SoRTed-01 मिशन के सफल प्रक्षेपण के लिए बधाई अग्निकुल कॉसमॉस। एडिटिव मैन्युफैक्चरिंग के माध्यम से सेमी-क्रायोजनिक लिक्विड इंजन की पहली कंट्रोल्ड फ्लाइट एक बड़ा माइलस्टोन है।

Dainik Bhaskar पंजाब में वोटिंग से पहले पूर्व PM का लेटर:डॉ. मनमोहन बोले- पंजाबियत बदनाम की, मोदी ने हेट स्पीच से पद की गरिमा कम की

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने लोकसभा चुनाव-2024 के आखिरी चरण में होने वाली पंजाब में वोटिंग से पहले पंजाब के वोटरों के नाम लेटर लिखा है। जिसमें उन्होंने पंजाब के लोगों से भाजपा सरकार न बनाने की अपील की। वहीं भारत की अर्थ-व्यवस्था को पहुंच रहे नुकसान के बारे में अपनी राय दी है। कांग्रेस के मीडिया एवं पब्लिसिटी विभाग के चेयरमैन पवन खेड़ा ने दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर डॉ. मनमोहन सिंह का लेटर सार्वजनिक किया। 3 पेज के लेटर में मनमोहन सिंह ने किसान आंदोलन समेत बड़ी घटनाओं का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने पंजाब, पंजाबियों और पंजाबियत को बदनाम करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। दिल्ली की सीमाओं पर 750 किसान इंतजार करते हुए शहीद हो गए। इनमें अधिकतर (करीब 500) पंजाब के किसान थे। मोदी जी ने चुनाव के दौरान नफरत भरे भाषण दिए। वह पहले प्रधानमंत्री हैं, जिन्होंने पद की गरिमा कम की है। कुछ गलत बयानों के लिए उन्होंने मुझे भी जिम्मेदार ठहराया है। मैंने अपने जीवन में कभी भी एक समुदाय को दूसरे समुदाय से अलग नहीं किया। यह करने का कॉपीराइट सिर्फ भाजपा के पास है। जानिए, डॉ. मनमोहन सिंह ने लेटर में क्या लिखा... डॉ. मनमोहन सिंह ने लिखा- मेरे प्यारे देशवासियों, भारत एक अहम मोड़ पर खड़ा है। मतदान के अंतिम चरण में, हमारे पास यह सुनिश्चित करने का एक अंतिम मौका है कि लोकतंत्र और हमारे संविधान को भारत में तानाशाही कायम करने की कोशिश कर रहे निरंकुश शासन के बार-बार होने वाले हमलों से बचाया जाए। पंजाब और पंजाबी योद्धा हैं। हम बलिदान की भावना के लिए जाने जाते हैं। समावेशिता, सद्भाव, सौहार्द और भाईचारे के लोकतांत्रिक लोकाचार में हमारा अदम्य साहस और सहज विश्वास हमारे महान राष्ट्र की रक्षा कर सकता है। लिखा- पंजाबियों को बदनाम किया पिछले 10 सालों में भाजपा सरकार ने पंजाब, पंजाबी और पंजाबियत को बदनाम करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। 750 किसान, जिनमें से ज्यादातर पंजाब से थे, दिल्ली की सीमाओं पर महीनों तक इंतजार करते हुए शहीद हो गए। जैसे कि लाठियां और रबर की गोलियां पर्याप्त नहीं थीं। प्रधानमंत्री ने संसद की दहलीज पर हमारे किसानों को आंदोलनजीवी और परजीवी कहकर मौखिक रूप से हमला किया। उनकी एकमात्र मांग उनसे परामर्श किए बिना उन पर थोपे गए 3 कृषि कानूनों को वापस लेने की थी। मोदी जी

Dainik Bhaskar PM मोदी शाम को कन्याकुमारी पहुंचेंगे:देवी अम्मन मंदिर में दर्शन-पूजन फिर 1 जून तक विवेकानंद शिला पर ध्यान करेंगे

लोकसभा चुनाव के प्रचार का शोर थमते ही PM नरेंद्र मोदी गुरुवार को कन्याकुमारी पहुंचेंगे। यहां वह शाम पांच बजे भगवती देवी अम्मन मंदिर (कन्याकुमारी मंदिर) में दर्शन-पूजन करेंगे। इसके बाद विवेकानंद शिला जाकर वहां 1 जून तक ध्यान करेंगे। विवेकानंद शिला के पास स्थित तमिल कवि तिरुवल्लुवर की प्रतिमा भी देखेंगे। एक जून की शाम को PM मोदी दिल्ली के लिए रवाना हो सकते हैं। मोदी 2019 में आखिरी फेज की वोटिंग से पहले केदारनाथ गए थे। वहां बनी रुद्र गुफा में 17 घंटे ध्यान लगाया था। ध्यान के बाद बद्रीनाथ के दर्शन करने भी गए थे। सातवें और आखिरी चरण का चुनाव प्रचार आज शाम पांच बजे थम जाएगा। एक जून को वोटिंग होगी। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि मोदी के ध्यान को अगर टीवी पर दिखाया गया तो वे इसकी शिकायत चुनाव आयोग से करेंगी।

Dainik Bhaskar पंजाब में राहुल गांधी की रैली:बोले- चुनाव में संविधान पर आक्रमण हो रहा, BJP नेता फाड़ कर फेंक देंगे

कांग्रेस नेता राहुल गांधी दूसरे दिन भी पंजाब दौरे पर हैं। वह चुनाव प्रचार थमने के अंतिम दिन नवांशहर के खटकड़ कलां गांव में संविधान बचाओ रैली को संबोधित कर रहे हैं। यहां वह श्री आनंदपुर साहिब से कांग्रेस उम्मीदवार विजय इंदर सिंगला के लिए समर्थन मांगने पहुंचे हैं।

Dainik Bhaskar शराब नीति केस- केजरीवाल ने पहली जमानत याचिका दाखिल की:दोपहर 2 बजे राउज एवेन्यू कोर्ट सुनवाई करेगा; 2 जून को सरेंडर करना है

दिल्ली शराब नीति से जुड़े भ्रष्टाचार मामले में सीएम अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार (30 मई) को राउज एवेन्यू कोर्ट में जमानत याचिका दाखिल की है। उनकी याचिका पर आज दोपहर 2 बजे सुनवाई होगी। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट की वेकेशन बेंच ने 28 मई को केजरीवाल की अंतरिम जमानत पर तत्काल सुनवाई करने से इनकार कर दिया था। SC से दिल्ली सीएम ने मेडिकल ग्राउंड पर एक जून तक मिली अंतरिम जमानत को 7 दिन बढ़ाने की मांग की थी। इस पर जस्टिस जेके माहेश्वरी और जस्टिस केवी विश्वनाथन की वेकेशन बेंच ने कहा था कि अंतरिम जमानत बढ़ाने का फैसला CJI करेंगे, क्योंकि मुख्य मामले में केजरीवाल के खिलाफ फैसला सुरक्षित है। केजरीवाल की तरफ से वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने दलीलें रखी थीं। केजरीवाल को ED ने शराब नीति से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग केस में 21 मार्च को गिरफ्तार किया था। 50 दिन जेल में रहने के बाद उन्हें 10 मई को जमानत मिली थी। उनकी 21 दिन की जमानत 1 जून को खत्म हो रही है। 2 जून को उन्हें सरेंडर करना है। केजरीवाल को बिना मांगे अंतरिम जमानत ऐसे मिली ED ने शराब नीति केस में केजरीवाल को 21 मार्च को अरेस्ट किया था। ED ने 22 मार्च को उन्हें राउज एवेन्यू कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने दिल्ली सीएम को 28 मार्च तक ED रिमांड पर भेजा, जो बाद में 1 अप्रैल तक बढ़ाई गई थी। इस दौरान केजरीवाल ने अपनी गिरफ्तारी को चुनौती देते हुए दिल्ली हाईकोर्ट में रिट याचिका दायर की। हाईकोर्ट ने 9 अप्रैल को उनकी याचिका खारिज कर दी थी। इसके बाद कोर्ट ने 1 अप्रैल को उन्हें 15 अप्रैल तक न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेज दिया था। लोकल कोर्ट में ED की सप्लीमेंट्री चार्जशीट पर सुनवाई 4 जून को दिल्ली की लोकल कोर्ट ने 28 मई को केजरीवाल के खिलाफ ED की सप्लीमेंट्री चार्जशीट पर संज्ञान लेने के अपने आदेश को 4 जून तक सुरक्षित रख लिया है। ED ने 17 मई को राउज एवेन्यू कोर्ट में 18वीं सप्लीमेंट्री चार्जशीट दाखिल की थी, जिसमें केजरीवाल और AAP को आरोपी बनाया था। केजरीवाल पर सुप्रीम कोर्ट में अब तक 7 बार हुई सुनवाई...

Dainik Bhaskar जयराम रमेश बोले-48 घंटे में तय होगा I.N.D.I.A. का प्रधानमंत्री:गठबंधन की जो पार्टी सबसे ज्यादा सीटें जीतेगी, वही सरकार बनाने की दावेदार होगी

कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा है कि लोकसभा चुनाव 2024 में जीत के बाद I.N.D.I.A. ब्लॉक 48 घंटे के अंदर प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार तय कर देगा। रमेश ने यह भी कहा कि गठबंधन में जिस पार्टी को सबसे ज्यादा सीटें मिलेंगी, वही सरकार बनाने का स्वाभाविक दावेदार होगी। 7वें फेज की वोटिंग से पहले चुनाव प्रचार के आखिरी दिन न्यूज एजेंसी PTI को दिए इंटरव्यू में कांग्रेस महासचिव ने दावा किया कि इंडी गठबंधन लोकसभा में बहुमत के लिए जरूरी 272 के आंकड़े से कही ज्यादा सीटें हासिल करेगा। उन्होंने कहा कि कि इंडी ब्लॉक की सरकार बनती है तो NDA की सहयोगी पार्टियां भी गठबंधन में शामिल हो सकती हैं, हालांकि उन्हें शामिल करेंगे या नहीं, इसका फैसला कांग्रेस हाईकमान लेंगे। नीतीश कुमार पलटी मारने में माहिर जयराम से पूछा गया कि क्या चुनाव के बाद जेडी(यू) प्रमुख नीतीश कुमार और टीडीपी अध्यक्ष एन चंद्रबाबू नायडू जैसे एनडीए सहयोगियों के लिए दरवाजे खुले रहेंगे। इस पर उन्होंने कहा- नीतीश कुमार पलटी मारने में माहिर हैं। नायडू 2019 में कांग्रेस के साथ गठबंधन में थे। रमेश ने कहा कि भारत और एनडीए के बीच दो आई का अंतर है- I फॉर इंसानियत और I फॉर ईमानदारी। जिन दलों में ईमानदारी और इंसानियत है, लेकिन वे एनडीए में हैं, वे इंडी ब्लॉक में शामिल होंगे। जनता से जनादेश मिलने के बाद बनने वाली सरकार तानाशाह नहीं, जनता की सरकार होगी। रिटायरमेंट के बाद की लाइफ पर ध्यान लगाने जा रहे मोदी रमेश ने कहा कि दिलचस्प बात यह है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विवेकानंद रॉक मेमोरियल जा रहे हैं और दो दिनों तक ध्यान करेंगे। वही विवेकानंद स्मारक जहां से राहुल गांधी ने 7 सितंबर 2022 को भारत जोड़ो यात्रा शुरू की थी। मुझे यकीन है कि वह मोदी इस बात पर ध्यान लगाएंगे कि रिटायरमेंट के बाद जीवन कैसा होगा। हम 2004 का इतिहास दोहराएंगे - रमेश छह फेज की वोटिंग के बाद जमीनी हकीकत के बारे में पूछने पर रमेश ने कहा, "मैं संख्या में नहीं जाना चाहता, लेकिन मैं बस इतना कह रहा हूं कि इंडी गठबंधन को स्पष्ट और निर्णायक बहुमत मिलेगा। 273 स्पष्ट बहुमत है, लेकिन यह निर्णायक नहीं है। जब मैं स्पष्ट और निर्णायक कहता हूं, तो मेरा मतलब 272 सीटों से बहुत ज्यादा है।" रमेश ने यह दावा भी किया कि जब कांग्रेस ने भाजपा के इंडिया शाइनिंग अभियान के बावजूद गठबंधन सरकार बनाने

Dainik Bhaskar नोएडा के लोटस बुलेवर्ड सोसाइटी में लगी आग:AC ब्लास्ट होने से फैली आग, फायर फाइटर्स रेस्क्यू में जुटे

नोएडा के सेक्टर-100 स्थित लोटस बुलेवर्ड सोसाइटी में गुरुवार सुबह भीषण आग लग गई। आग सोसाइटी के टावर नंबर-28 में लगी। AC फटने के साथ तेजी से आग फैली और फ्लैट के दोनों बेडरूम तक पहुंच गई। इस दौरान कमरे में रखा सारा सामान जलकर राख हो गया। गार्ड ने स्थानीय पुलिस और फायर ब्रिगेड को इसकी जानकारी दी। माैके पर पहुंची दमकल की 4 गाड़ियों ने आग पर काबू पाया। इस दौरान हाइड्रोलिक की मदद ली गई। अभी भी फायर फाइटर्स आग को ठंडी करने में जुटे हैं। अगल-बगल के फ्लैट में आग फैलने से बची बताया गया कि सोसाइटी के टावर -28 में बख्शी का फ्लैट है। इसी फ्लैट के दो बेड रूम में आग लगी थी। आग AC में लगी, जिसके बाद काफी तेज ब्लास्ट हुआ। ब्लास्ट होते ही आग तेजी से फैली। गनीमत रही अगल-बगल के फ्लैटों में आग नहीं पहुंची। अन्यथा बड़ा हादसा हो सकता था। इस दौरान सोसाइटी में लगे फायर उपकरण और फायर ब्रिगेड ने कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। बिल्डिंग को ठंडा करने के लिए पानी की बौछारें कीं CFO प्रदीप चौबे ने बताया कि आग को बुझा दिया गया। जब आग लगी तो सभी लोग बाहर आ चुके थे। ऐहतियात के तौर पर आसपास के फ्लैट के लोगों को भी बाहर निकाल लिया गया था। पानी की बौछारें अगल-बगल के फ्लैट पर भी की गईं, ताकि बिल्डिंग को ठंडा रखा जा सके।

Dainik Bhaskar न्यूज इन ब्रीफ@11 AM:8 राज्यों में हीटवेव का रेड अलर्ट; PM मोदी का दावा- गांधी फिल्म से मशहूर हुए महात्मा

नमस्कार, आइए जानते हैं आज सुबह 11 बजे तक की देश-दुनिया की 10 बड़ी खबरें… 1. 8 राज्यों में हीटवेव का रेड अलर्ट, रोहतक में सबसे ज्यादा 48.8°C तापमान आज नौतपा का छठा दिन है। मौसम विभाग के मुताबिक आज उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, हिमाचल प्रदेश और जम्मू संभाग में हीटवेव का ऑरेंज अलर्ट है। वहीं, बिहार, झारखंड, राजस्थान के कुछ हिस्सों, पंजाब, हरियाणा-चंडीगढ़-दिल्ली, ओडिशा में हीटवेव का रेड अलर्ट है। बुधवार को हरियाणा के रोहतक में सबसे ज्यादा 48.8°C तापमान दर्ज किया गया था। पूरी खबर पढ़ें... 2. PM मोदी का दावा- गांधी फिल्म से मशहूर हुए महात्मा, राहुल का जवाब- बापू को ‘शाखा शिक्षित’ के प्रमाणपत्र की जरूरत नहीं पीएम मोदी ने 28 मई को एक चैनल को दिए इंटरव्यू में यह दावा किया कि महात्मा गांधी के बारे में दुनिया पहले कुछ नहीं जानती थी। रिचर्ड एटनबरो की 1982 की फिल्म गांधी बनने के बाद महात्मा गांधी को पहचान मिली। इस पर राहुल गांधी ने कहा कि जो लोग नाथूराम गोडसे के हिंसा के रास्ते पर चलते हैं, वे गांधी को नहीं समझ सकते। महात्मा गांधी को किसी ‘शाखा शिक्षित’ के प्रमाणपत्र की जरूरत नहीं है। पूरी खबर पढ़ें... 3. पाकिस्तान के पूर्व मंत्री फवाद चौधरी बोले- पाकिस्तान में हर कोई चाहता है नरेंद्र मोदी चुनाव हारें पाकिस्तान के पूर्व मंत्री फवाद चौधरी ने कहा है कि हर पाकिस्तानी की ख्वाहिश है कि नरेंद्र मोदी चुनाव हारें। जो भी उनको हराएगा चाहे वे राहुल हों, केजरीवाल हों या ममता बनर्जी, उसके साथ हमारी शुभकामनाएं रिश्ते तभी सुधरेंगे, जब दोनों देशों में अतिवाद कम होगा। पाकिस्तान में भारत के लिए नफरत नहीं है, लेकिन RSS-BJP लोगों के दिलों में नफरत भर रहे हैं। पूरी खबर पढ़ें... 4. ओडिशा के पुरी में जगन्नाथ चंदन यात्रा के दौरान पटाखों में विस्फोट, 15 लोग घायल, 4 की हालत गंभीर पुरी में 29 मई की रात भगवान जगन्नाथ के चंदन यात्रा उत्सव के दौरान पटाखों के ढेर में विस्फोट हो गया। घटना में 15 लोग झुलस गए, जिनमें से 4 की हालत गंभीर है। सैकड़ों लोग अनुष्ठान देखने के लिए नरेंद्र पुष्करिणी सरोवर के तट पर इकट्ठा हुए थे। इसी दौरान कुछ श्रद्धालु आतिशबाजी कर रहे थे, तभी एक चिंगारी पटाखों के ढेर पर गिरी और उसमें धमाका हो गया। पूरी खबर पढ़ें... 5. पुणे पोर्श केस में ससून अस्पताल के द

Dainik Bhaskar लोकसभा चुनाव में PM मोदी की आखिरी रैली:पंजाब में होशियारपुर पहुंचेंगे; इसके बाद कन्याकुमारी रवाना होंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लोकसभा चुनाव 2024 के लिए आज अपनी अंतिम रैली पंजाब के होशियारपुर में करने जा रहे हैं। यह फतेह रैली सुबह 11 बजे शुरू होगी। होशियारपुर के बाद उनका अगला शेड्यूल कन्याकुमारी के लिए है। चुनाव अभियान संपन्न होने के बाद मोदी 1 जून तक वहीं रहेंगे। प्रधानमंत्री मोदी कन्याकुमारी में रॉक मेमोरियल का दौरा करने वाले हैं। यहां वह ध्यान साधना करेंगे, जहां स्वामी विवेकानंद ने ध्यान किया था। उससे पहले 10.30 बजे नरेंद्र मोदी आदमपुर एयरपोर्ट पर लैंड होंगे। यहां से वह हेलिकॉप्टर से रैली स्थल के लिए रवाना होंगे। समारोह स्थल पर सुरक्षा की थ्री-लेयर तैयार है। सुरक्षा इंतजामों के बीच किसान एक बार फिर बड़ी चुनौती हैं।

Dainik Bhaskar PM का दावा-गांधी फिल्म के बाद ही महात्मा मशहूर हुए:राहुल गांधी का जवाब- जो गोडसे के रास्ते पर चलते हैं, वे गांधी को नहीं समझ सकते

लोकसभा चुनाव 2024 के दौरान पीएम मोदी लगातार कांग्रेस और उसके नेताओं पर कमेंट्स कर रहे हैं। 28 मई को एक चैनल को दिए इंटरव्यू में पीएम मोदी ने यह दावा किया कि महात्मा गांधी के बारे में दुनिया पहले कुछ नहीं जानती थी। रिचर्ड एटनबरो की 1982 की फिल्म गांधी बनने के बाद महात्मा गांधी को पहचान मिली। पीएम मोदी के इस दावे के बाद राहुल गांधी ने सोशल मीडिया X पर एक वीडियो पोस्ट किया है। जिसमें वे महात्मा गांधी की एक मूर्ति के पास खड़े हैं और कह रहे हैं कि जो लोग नाथूराम गोडसे के हिंसा के रास्ते पर चलते हैं, वे गांधी को नहीं समझ सकते। राहुल ने लिखा- सत्य और अहिंसा के रूप में बापू ने दुनिया को ऐसा मार्ग दिखाया, जो कमजोर से कमजोर व्यक्ति को भी अन्याय के खिलाफ खड़े होने का साहस देता है। उन्हें किसी ‘शाखा शिक्षित’ के प्रमाणपत्र की जरूरत नहीं है। वीडियो में राहुल कह रहे हैं, "शाखाओं में जिनकी वर्ल्ड व्यू बनती है, वो गांधी जी को नहीं समझ सकते हैं। ऐसे लोग गोडसे को समझते हैं। गोडसे के रास्ते को अपनाते हैं। गांधी जी पूरी दुनिया के लिए एक प्रेरणा थे। मार्टिन लूथर किंग जूनियर, नेलशन मंडेला, अल्बर्ट आइंस्टीन ये सब लोग महात्मा गांधी से प्रेरित होते हैं। हिंदुस्तान में करोड़ों लोग महात्मा गांधी का रास्ता अपनाकर सत्य और अहिंसा के रास्ते पर चलते हैं। यह लड़ाई सत्य और असत्सय पर है, हिंसा और अहिंसा पर है, हिंसा करने वाले लोग सत्य को नहीं समझ सकते हैं।" पीएम मोदी ने कहा था- महात्मा मार्टिन-मंडेला से कम नहीं थे PM मोदी ने न्यूज चैनल एबीपी को दिए इंटरव्यू के दौरान दावा किया था- महात्मा गांधी दुनिया की एक महान आत्मा थे। पिछले 75 साल में क्या महात्मा गांधी के बारे में दुनिया को बताना हमारी जिम्मेदारी नहीं थी। कोई भी उनके बारे में नहीं जानता था। मुझे माफ करें, लेकिन दुनिया में पहली बार उनके बारे में जिज्ञासा तब बढ़ी, जब फिल्म गांधी बनी। हमने ऐसा नहीं किया।’ उन्होंने कहा- अगर दुनिया मार्टिन लूथर किंग, नेल्सन मंडेला को जानती है, तो गांधी उनसे कम नहीं थे और आपको यह स्वीकार करना होगा। मैं दुनिया भर की यात्रा करने के बाद यह कह रहा है।’

Dainik Bhaskar भास्कर ओपिनियन:तापमान बढ़ रहा है, मौसमी तौर पर भी और राजनीतिक रूप से भी

मौसम बदल रहा है। राजनीतिक रूप से भी। मौसमी तरीक़े से भी। दिल्ली के कुछ इलाक़ों में बुधवार को तापमान 52 डिग्री से ऊपर चला गया। जैसा कि होता है, तापमान हद से ज़्यादा हो जाए तो बादल मेहरबान होने लगते हैं, वैसा ही दिल्ली में भी हुआ। शाम को तेज आंधी के साथ बारिश हो गई। हालाँकि दिल्ली की गर्मी में बारिश के बावजूद कमी नहीं आती। चिपचिपी हो जाती है। राजनीति में भी आजकल यही सब हो रहा है। लोकसभा चुनाव का आख़िरी दौर एक जून को है। इसके पहले बयानों का तापमान आसमान पर पहुँच चुका है। लगता है यह तापमान प्रचार थमने के दिन यानी तीस जून की शाम को कम हो जाएगा। लेकिन लगता है गर्मी कम नहीं होने वाली। चिपचिपी हो जाएगी। चार जून को जब चुनाव परिणाम की भारी बारिश होगी, तभी ठंडक पड़ेगी। राजनीतिक दलों के कलेजे में भी और आम जनता के क़यासों पर भी। मौसम की बात करें तो अब तक यही देखा गया कि यदा कदा राजस्थान के जैसलमेर और बाड़मेर के पास पाकिस्तान सीमा से सटे इलाक़ों में ही तापमान पचास डिग्री से ऊपर जाता था लेकिन अब तो दिल्ली तक पीछे नहीं रही। उसके कुछ इलाक़े भी पचास से ज़्यादा डिग्री पर तप रहे हैं। निश्चित तौर पर पेड़ों को काटकर कंक्रीट के जंगल बिछाने का ही यह परिणाम है। गर्मी के मौसम में तापमान बहुत ज़्यादा हो जाता है। पावस के दिनों में बारिश या तो बहुत दिनों तक होती नहीं या इतनी ज्यादा हो जाती है कि बाढ़ आ जाती है। समुद्री तूफ़ानों ने भी अपनी रफ़्तार बढ़ा दी है। पर्यावरणीय नैतिकता के क्षरण के कारण यह सब हमें भुगतना पड़ रहा है। नैतिकता की कमी जिस भी क्षेत्र में आती है, इसी तरह की असमानता का सामना करना पड़ता है। आजकल की राजनीति को तो पता ही नहीं है कि नैतिकता आख़िर किस चिड़िया का नाम है। जाने कब यह चिड़िया राजनीति के बियाबान से पंख फैलाए उड़ चुकी। चुनाव आते ही नेताओं की नीतियाँ, सिद्धांत और आस्था कपड़ों की तरह बदलने लगती है। इस दल से उसमें, उस दल से इसमें, आते-जाते रहते हैं। …और हम जाने कब से इन दल बदलुओं को ही चुनाव जिताने में लगे हुए हैं। समझ में नहीं आता कि इन नेताओं के दल बदलने में आख़िर जनता का क्या फ़ायदा है? सोच कर देखें तो दल बदलने में, सिवाय निजी स्वार्थ के और कुछ नज़र नहीं आता। फिर भी ये बार-बार दल बदलते फिरते हैं और बार-बार जीतते भी रहते हैं। जाने क्यों? आख़िर हम ऐसे नेताओं को वोट देते ही